समर्थक

शुक्रवार, 24 मार्च 2017

निषेधाज्ञा


चुप रहो,
वे सुन रहे हैं!
छिपे रहो,
वे देख रहे हैं!!
साँस मत लो,
उन्हें हमारा जीना पसंद नहीं!!!
...      ...      ...

उनकी तो 
ऐसी की तैसी।


शनिवार, 18 मार्च 2017

चुप्पी

चुन-चुन कर मार दिए जाएँगे
आज के दौर में
बोलने वाले?

जो चुप हैं
वे तो मरे हुए हैं ही!.

@ऋषभदेव शर्मा
------------------------