समर्थक

गुरुवार, 28 अक्तूबर 2010

कंगारू

मैं कंगारू हूँ.
मेरी छाती में एक जेब है,
जेब में एक बच्चा.
बच्चे को हर हाल में बचाना है मुझे.

वे मुझे बंदर समझते हैं
और मेरे बच्चे को लाश.
कैसे सौंप दूँ उन्हें? 
बच्चे को हर हाल में बचाना है मुझे!

3 टिप्‍पणियां:

पद्म सिंह ने कहा…

छाती पर जेब, जेब में बच्चा, और बच्चा भी नादान .... कैसे और कब तक सम्हालें

cmpershad ने कहा…

छाती पर जेब
जेब में पेन
उठाना ही होगा
तेवरी के लिए :)

ऋषभ Rishabha ने कहा…

@पद्म सिंह
कविता को नया आयाम देने के लिए आभारी हूँ.


@cmpershad
वाह! इसे ही शायद पाठक की क्रिएटिविटी कहते हों.