समर्थक

शुक्रवार, 23 सितंबर 2016

प्रफुल्लता

प्राण की अमराइयों में
प्रीत का कोकिल

बोल उट्ठा ...

बौर रोमों में
उठे हैं खिल


31 मार्च, 2000

कोई टिप्पणी नहीं: