समर्थक

रविवार, 21 जुलाई 2013

क्षणिक

इंद्र के वज्र सा मेरा अस्तित्व

अभी कौंधा
और
लो, विलीन हो चला

पलक झपकते हो गई प्रलय



कोई टिप्पणी नहीं: