समर्थक

सोमवार, 22 जुलाई 2013

लोकनिद्रा

अरी ओ चिरैया!
ज़रा उषा की अगवानी के गीत तो गाओ.
                              जनता को जगाना है

अरी ओ कलियो!
ज़रा चटक कर खुशबू बिखेरो न
                              जनता को जगाना है

अजी ओ सूरज दादा!
जमे हिम खंड पिघला दो अपनी धूप से
                              जनता को जगाना है

अरी ओ हवाओ!
सहलाओ मत, जोर से हिलाओ, झकझोरो
                              जनता को जगाना है

अरे ओ बादलो!
उमडो घुमडो गरजो बरसो, बिजली चमकाओ
                              जनता को जगाना है


अरी ओ धरती!
फट नहीं पड़ना!  थोड़ा और धीर धरो!!
                              जनता जाग रही है!!!



कोई टिप्पणी नहीं: