फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 3 फ़रवरी 2023

मुझको मेरा गीत चाहिए

मुझको मेरा गीत चाहिए

वही मुक्त संगीत चाहिए


        मेरे मथुरा-ब्रज-वृंदावन

        कालिंदी के तट रहने दो 

        कुरुक्षेत्र मत करो देश को

        यों न रक्त-सरिता बहने दो


रक्तजीवियों के जंगल में 

दूध नहाया मीत चाहिए


        मेरे उषा-सूक्त के गायन 

        मुझको गीता-गायत्री दो

        मेरा गौतम, मेरा गांधी

        मुझको सीता-सावित्री दो


जो विषधर को गंगा कर दे 

शिवशंकर की प्रीत चाहिए


        मत आँगन के बीच उगाओ

        नागफनी के काँटे ज़हरी

        शर संधाने  सिंधु-तीर पर 

        तत्पर मर्यादा के प्रहरी


मेरे नक्शे के त्रिकोण को

फिर से रघुकुल रीत चाहिए 000


#पुरानी_रचना (लखनऊ: 2 जून, 1984)

कोई टिप्पणी नहीं: