समर्थक

रविवार, 26 दिसंबर 2010

सत्यवादी

जब-जब तुम्हें याद करता हूँ
सच बोलना चाहता हूँ!

जब-जब सच बोलना चाहता हूँ
तुम्हारा अंत याद आ जाता है!

और मैं
कन्नी काटकर निकल जाता हूँ!

(दो अक्टूबर २००३)

कोई टिप्पणी नहीं: