समर्थक

बुधवार, 19 अप्रैल 2017

वह शाम

शाम थी कैसी कि नटखट बादलों में हम घिरे थे।
सब दिशाएँ खो गई थीं, भटकते यूँ ही फिरे थे।।
याद हैं फिसलन भरी क्या चीड़ की वे पत्तियाँ?
एक-दूजे को संभाले दूर तक जिनसे गिरे थे।।

कोई टिप्पणी नहीं: