समर्थक

सोमवार, 17 अप्रैल 2017

सावधान

प्रभुओं से सावधान औ' प्रभुता से सावधान।
दंगल में जीत कर मिली सत्ता से सावधान।।
सीता के घर में झाँकते धोबी कई-कई!
नेता तो खैर ठीक है जनता से सावधान।।
5/4/2017

कोई टिप्पणी नहीं: