समर्थक

सोमवार, 17 अप्रैल 2017

खैर मनाओ

कीमत घटी इनसान की खैर मनाओ।
इस दौर में भगवान की खैर मनाओ।
जब सौंप दी अंधों को बंदूक आपने!
अब आप अपनी जान की खैर मनाओ।।
5/4/2017

कोई टिप्पणी नहीं: