समर्थक

बुधवार, 19 अप्रैल 2017

शुभोदय

फिर सुहानी भोर आई, मित्रवर, तुमको नमन।
ऊर्जा की धूप छाई, मित्रवर, तुमको नमन।।
यह दिवस उल्लास में, आनंद में खिलता रहे;
शुभकामना संदेश लाई, मित्रवर, तुमको नमन।।

कोई टिप्पणी नहीं: