समर्थक

सोमवार, 17 अप्रैल 2017

कैसे चलूँ?

यह विषम पथ, नाथ!मैं कैसे चलूँ?
अब तुम्हारे साथ मैं कैसे चलूँ?
लोग हाथों में लिए पत्थर खड़े:
हाथ में दे हाथ मैं कैसे चलूँ?

6/4/2017

कोई टिप्पणी नहीं: