समर्थक

सोमवार, 17 अप्रैल 2017

डर सा

राह चलते राह से डर सा लगे है आजकल।
आपअपनी छाँह से डर सा लगे है आजकल।।
चर्चा चली है आ गए सियासत में साँप भी!
यार!अपनी बाँह से डर सा लगे है आजकल।।
5/4/2017

कोई टिप्पणी नहीं: