समर्थक

बुधवार, 19 अप्रैल 2017

रासायनिक बम

दम तोड़ने से पहले सपने नीले पड़ गए थे,
होंठ ऐंठ गए थे सफेद फेन उगलते-उगलते;
अच्छा हुआ, नींद में ही तड़क गई थीं नसें,
दम टूट गया; नींद नहीं टूटी!

जल्लाद! तुम सचमुच कितने दयालु हो!!

कोई टिप्पणी नहीं: