समर्थक

सोमवार, 17 अप्रैल 2017

औचित्य का प्रश्न

बदज़ुबानों की सभा की, क्या सदारत कीजिए?
क्यों किसी पर सच जताने, की हिमाकत कीजिए??
मौन ही रहना उचित है, इस नए माहौल में;
प्यार की बातें न करिए, बस सियासत कीजिए!!

6/4/2017

कोई टिप्पणी नहीं: