समर्थक

बुधवार, 19 अप्रैल 2017

खुशबू

एक पगली छोकरी।
फूलों की टोकरी।।
खुशबू ने कर ली
उसके घर नौकरी।।

कोई टिप्पणी नहीं: