समर्थक

बुधवार, 19 अप्रैल 2017

लाचार हूँ

दुश्मन के संग वास की आदत से लाचार हूँ।
वर्षा के बीच प्यास की आदत से लाचार हूँ।।
मैं जानता हूँ, आज फिर तुमने झूठ कहा है;
पर क्या करूँ, विश्वास की आदत से लाचार हूँ।।

कोई टिप्पणी नहीं: