समर्थक

रविवार, 20 दिसंबर 2009

'सूँ साँ माणस गंध'

100755121_9733e56abe610x.......
'सूँ साँ माणस गंध'

सुनो दुश्मन!
मैं न तो
किसी फौज का जनरल हूँ,
न किसी देश का प्रधानमंत्री ,
मैं दूरदर्शन का निदेशक भी नहीं हूँ
और खुफिया विभाग की नौकरी भी
कब का छोड़ चुका हूँ,
मैं कोई वाइस चांसलर भी नहीं हूँ,
न मैं किसी का अंग रक्षक हूँ
न मेरा कोई अंग रक्षक .
मैं तो एक यात्री हूँ
बस या ट्रेन की सीट पर ऊंघता हुआ,
दफ्तर, बाज़ार और
घर के तिकोन में भटकता हुआ ;
और इसीलिये
तुम्हारी हिट-लिस्ट का
एक नाम-रूप-हीन निशाना हूँ.
हर दिशा में मेरा पीछा कर रही है
तुम्हारी आर डी एक्स की दैत्याकार आँख -
सूंघती हुई बारूदी नथुनों से
'सूँ साँ माणस गंध'.......
लगातार दौड़ रहा हूँ मैं
पर यह निगोड़ी ' माणस गंध'.......
छिपाए नहीं छिपती.
तो ठीक है
इस गंध को ही
हथियार बनाना पड़ेगा अब मुझे..
लो ,
दौड़ना छोड़कर आ खड़ा हुआ हूँ
तुम्हारे सामने
निर्णायक युद्ध में,
क्योंकि अर्थहीन हो गए हैं.
वे सारे देवता
जिन्होंने लिया था भार भारत का ,
लोकतंत्र के योगक्षेम का ,
जय अथवा पराजय
अप्रासंगिक है
मेरे और तुम्हारे इस युद्ध में.......
प्रासंगिक है तो केवल
तुम्हारा आसुरी उन्माद ,
प्रभुओं की नपुंसकता
और मेरे अभिमन्युपन की
शाश्वत माणस गंध !!!
.....................................१२/५/१९९० ...................

कोई टिप्पणी नहीं: