समर्थक

रविवार, 20 दिसंबर 2009

नव संवत्सर शुभाकांक्षा





गए बरस की दहशतगर्दी
ठिठुरन सी भर गई नसों में,
नया बरस
कुछ तो गरमाहट लाए .........

कोई टिप्पणी नहीं: