समर्थक

रविवार, 20 दिसंबर 2009

नवसंवत्सर की शुभकामनाएँ !



"तेज़ धार का कर्मठ पानी,
चट्टानों के ऊपर चढ़कर,
मार रहा है
घूँसे कस कर
तोड़ रहा है तट चट्टानी !"
(केदारनाथ अग्रवाल). 

रूप की, गुण की,
निरंतर
कर्म की जय हो !!
नया वर्ष मंगलमय हो !!!
 

कोई टिप्पणी नहीं: