समर्थक

रविवार, 20 दिसंबर 2009

कई नाम दिए उन्होंने मुझे



कई नाम दिए उन्होंने मुझे

उन्होंने मुझे
एक नाम दिया - माँ
और अपने लिए सुरक्षित कर लीं
बहुत सारी स्वतंत्रताएं
दुहने की ज़मीन की तरह मुझे
और उपेक्षित छोड़ देने की. * उन्होंने मुझे
दूसरा नाम दिया - बहन
और अपने लिए सुरक्षित कर लिए
बहुत सारे अधिकार
मेरा अधिकार हड़पने के
और उपेक्षित छोड़ देने के . * उन्होंने मुझे
तीसरा नाम दिया - पत्नी
और अपने लिए सुरक्षित कर लिया
दुनिया भर का प्रभुत्व और वर्चस्व
मेरा सर्वस्व हरण करने को
और उपेक्षित छोड़ देने को. * उन्होंने मुझे
चौथा नाम दिया - बेटी
और अपने लिए सुरक्षित कर लीं
स्वर्ग की सीढियां , करके कन्यादान
बाँध कर पराये खूंटे पर अरक्षित मुझे. * उन्होंने मुझे
एक और नाम दिया - वेश्या
और आरक्षित कर ली अपने लिए
भूमिका पतितपावन , उद्धारक और मसीहा की
धकेलते रहने को बार बार मुझे
उनकी अपनी वासना के नरक में .......
*************************************************





कोई टिप्पणी नहीं: