समर्थक

रविवार, 20 दिसंबर 2009

मुझे पंख दोगे ?




मैंने किताबें माँगी
मुझे चूल्हा मिला ,
मैंने दोस्त माँगा
मुझे दूल्हा मिला.


मैंने सपने माँगे
मुझे प्रतिबंध मिले ,
मैंने संबंध माँगे
मुझे अनुबंध मिले.


कल मैंने धरती माँगी थी
मुझे समाधि मिली थी,
आज मैं आकाश माँगती हूँ
मुझे पंख दोगे ?



http://streevimarsh.blogspot.com/2009/02/blog-post.html

कोई टिप्पणी नहीं: