समर्थक

रविवार, 20 दिसंबर 2009

मैत्री

मैत्री
यह क्या कि कलाई में पहना दी
फ्रेंडशिप-बैंड
और समझ लिया, हो गई मैत्री पूरी?

मित्रता सबसे बड़ा धर्मं है.
छल भी उचित है
मित्रता की रक्षा के लिए.

राम ने वृक्ष की ओट से
बालि को मारा
-मित्र को बचाना था न!

कृष्ण ने कसम तोड़कर
भीष्म पर हथियार उठाया
-मित्र को बचाना था न!

मित्रता सचमुच
सबसे बड़ा धर्मं है।
http://balsabhaa.blogspot.com/2008/07/blog-post_28.html

कोई टिप्पणी नहीं: