समर्थक

रविवार, 20 दिसंबर 2009

प्रशस्तियाँ


मैंने जब भी कुछ पाया
मर खप कर पाया
खट खट कर पाया
अग्नि की धार पर गुज़र कर पाया

पाने की खुशी
लेकिन कभी नहीं पाई
खुशी से पहले हर बार
सुनाई देती रहीं
मेरी प्रशस्ति में
दुर्मुखों की फुसफुसाहटें
धोबियों की गालियाँ
और मन्थराओं की बोलियाँ

शिक्षा हो या व्यवसाय
प्रसिद्धि हो या पुरस्कार
हर बार उन्होंने यही कहा -
चर्म-मुद्रा चल गई!
[चर्म-चर्वण से परे वे कभी गए ही नहीं!]

मैंने
हर दौड़ में उन्हें पीछे छोड़ा
हर मैदान में पछाड़ा,
उन्होंने
मेरा पीछा नहीं छोड़ा

मैं
कच्चे सूत पर चलकर
भर लाई घड़ों पानी
वे किनारे पर ही ऊभ-चूभ हैं!! O

कोई टिप्पणी नहीं: