समर्थक

रविवार, 20 दिसंबर 2009

गोल महल The round-about palace


गोल महल
गोल महल में
भारी बदबू,
सीलन औ' अवसाद;
धूप से
टूट गया संवाद .
कुर्सीजीवी कीट
बोझ से
धरती दबा रहे हैं;
मोटी एक किताब,
उसी के
पन्ने चबा रहे हैं;
दरवाज़े हैं बंद
झरोखों तक
मलबे की ढेरी;
दिवा रात्रि का आवर्तन है
चमगादड़ की फेरी;
इसको दफ़न करें मिटटी में
बन जाने दें -
खाद ! o
The round-about Palace
uncontrolable stench,grimmace and uncouth
In the round -about palace
No dialogue with the sun .
parasites on seats and chairs
suck the mould.
And chew
the pages of a heavy book.
doors,windows shut ,closed
No outside air fresh or free reach
mud filled upto the actic.

there is a cycle of day and night
the bats come and go
Let it decay and die
the very compost for fertility!
(translated by Dr. Gopal Sharma)

कोई टिप्पणी नहीं: